Vrat ka Parimap | वृत्त का क्षेत्रफल, परिभाषा, त्रिज्या, & सूत्र

Hey दोस्तों कैसे हो आप, i hope कि आप अच्छे होंगे। so दोस्तों इस आर्टिकल में आप – हम सभी लोग सीखेंगे कि वृत्त क्या होता है, Vrat ka Parimap (व्रत का परिमाप), वृत्त किसे कहते हैं, वृत्त का क्षेत्रफल, वृत्त की परिभाषा, वृत्त की परिधि का सूत्र, वृत्त की त्रिज्या, वृत्त की सबसे बड़ी जीवा और अर्ध वृत्त का क्षेत्रफल। तो पुरे डिटेल्स में हम यहाँ पर सीखेंगे। और दोस्तों अगर आपको आर्टिकल पसंद आएगा तो plz अपने फ्रेंड्स के साथ जरूर शेयर कीजिये।

Vrat ka Parimap   वृत्त किसे कहते हैं | Vrat kise kahate Hain | वृत्त की परिभाषा

Vrat ka Parimap - वृत्त किसे कहते हैं

किसी एक नियत बिन्दु से किसी समान दुरी पर समस्त बिंदुओं से बनी आकृति को वृत्त कहते है और यह निश्चित बिंदु, वृत्त का केंद्र कहलाता है, केंद्र और वृत्त की परिधि के किसी भी बिन्दु के बीच की दूरी वृत्त की त्रिज्या कहलाती है। वृत्त एक साधारण बंद वक्र होता है जो समतल को दो क्षेत्रों में विभाजित करता है: एक आंतरिक और एक बाहरी।

वृत्त का क्षेत्रफल – Vrat ka Chetrafal | वृत्त के क्षेत्रफल का फार्मूला | Area of Circle Formula in Hindi

वृत्त का क्षेत्रफल दो-आयामी विमाए में वृत्त द्वारा घिरा हुआ वह क्षेत्र है, जो वृत्त के परिधि से व्यस्त रहता है.जो वृत्त के त्रिज्या के एक पूर्ण चक्र द्वारा कवर किया गया क्षेत्र होता है. उसे वृत्त का क्षेत्रफल कहते है.

वृत्त का क्षेत्रफल = πr2

जहाँ π = 22 / 7  या 3.14

 

वृत्त की परिधि का सूत्र | Vrat ki Paridhi ka Formula

वृत्त का परिमाप / परिधि = 2πr

वृत्त की त्रिज्या का सूत्र | Vrat ki Trijya ka Formula | Vrat ki Trijya ki Paribhasha

केंद्र और वृत्त की परिधि के किसी भी बिन्दु के बीच की दूरी वृत्त की त्रिज्या कहलाती है / वृत्त के केंद्र से वृत्त की परिधि के किसी भी बिंदु तक का एक रेखाखंड, जो व्यास का आधा होता है।

वृत्त की त्रिज्या = r = √(क्षेत्रफल / π)

 

Important Definition  — * Vrat ka Parimap *

वृत्त का चाप (Arc): वृत्त की परिधि का कोई भी भाग, वृत्त का चाप कहलाता है

वृत्त का केंद्र (Centre): वृत्त पर स्थित सभी बिंदुओं से समदूरस्थ बिंदु।

वृत्त का जीवा (Chord): एक रेखाखंड, जो वृत्त पर स्थित किन्हीं दो बिन्दुओं को मिलने पर बनता है। एक जीवा वृत्त को दो वृत्तखंडों में विभाजित करती है। वृत्त का जीवा कहलाता है।

वृत्त की परिधि (Circumference): वृत्त के चारों ओर की वक्र लंबाई। वृत्त की परिधि कहलाती है।

वृत्त का व्यास (Diameter): एक रेखाखंड जिसके अंतबिन्दु वृत्त पर स्थित होते हैं और जो केंद्र से गुजरता है या वृत्त के किन्हीं दो बिंदुओं के बीच की अधिकतम दूरी है। यह वृत्त की सबसे बड़ी जीवा होती है और यह त्रिज्या की दोगुनी होती है।

वृत्त का डिस्क (Disc): एक वृत्त से घिरा अन्तः समतलीय क्षेत्र।

वृत्त की त्रिज्या (Radius): वृत्त के केंद्र से वृत्त की परिधि के किसी भी बिंदु तक का एक रेखाखंड, जो व्यास का आधा होता है।

वृत्तखण्ड (Segment): केंद्ररहित एक क्षेत्र जो वृत्त की एक जीवा और एक चाप से घिरा होता है। एक जीवा वृत्त को दो वृत्तखंडों में विभाजित करती है।

छेदन रेखा या छेदिका (Secant): एक विस्तारित जीवा, जो वृत्त के समतलीय होती है तथा वृत्त को दो बिन्दुओं पर प्रतिच्छेदित करती है।

स्पर्शी या स्पर्श रेखा (Tangent): वृत्त के समतलीय सीधी रेखा जो एक बिंदु पर वृत्त को स्पर्श करती है।

अर्धवृत्त (Semicircle): वृत्त के व्यास तथा व्यास के अंतबिन्दुओं से बने चाप के मध्य का क्षेत्र अर्धवृत्त होता है। अर्धवृत्त का क्षेत्रफल, वृत्त के सम्पूर्ण क्षेत्रफल का आधा होता है। More Details- Wikipedia

निष्कर्ष:-  दोस्तों i hope कि आपको इस आर्टिकल में सारे डॉट्स क्लियर हो गए होंगे क्योकि इस आर्टिकल में हमने आप सभी लोगो को बताया कि वृत्त क्या होता है, Vrat ka Parimap (व्रत का परिमाप), वृत्त किसे कहते हैं, वृत्त का क्षेत्रफल, वृत्त की परिभाषा, वृत्त की परिधि का सूत्र, वृत्त की त्रिज्या, वृत्त की सबसे बड़ी जीवा और अर्ध वृत्त का क्षेत्रफल etc. तो दोस्तों अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी होगी तो plz अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिये। Thank You !

 

वर्ग का परिमाप (Varg ka Parimap) | परिभाषा, क्षेत्रफल

 

Tribhuj Kise Kahate Hain | त्रिभुज किसे कहते हैं

 

Tribhuj ka Parimap | त्रिभुज का परिमाप

Akbar Birbal Story in Hindi PDF | Free Download

 

यह भी पढ़े

 

Leave a Comment